Image Source : Allen coaching

जेईई मेन 2021 में पहला रैंक हासिल करनेवाले 18 छात्रों में 8 कोटा क्लासेज से

New Delhi : जेईई मेन 2021 के परिणाम मंगलवार देर रात जारी किया गया। इसमें 44 छात्रों ने 100 प्रतिशत अंक प्राप्त किये, जिनमें से 18 को संयुक्त परिणामों के आधार पर अखिल भारतीय रैंक (AIR) 1 दिया गया। इन 18 राष्ट्रीय जेईई टॉपर्स में से, 6 कोटा में एलन करियर इंस्टीट्यूट के छात्र हैं – अंशुल वर्मा, सिद्धांत मुखर्जी, मृदुल गोयल, काव्या चोपड़ा, पुलकित गोयल और गुरमृत सिंह ने अलग-अलग जेईई मेन 2021 सत्रों में 300 में से 300 अंक हासिल किये। न्यूज चैनल आजतक ने इन मेधावी छात्रों से बात की जिन्होंने अपनी तैयारी की रणनीति और भविष्य की योजनाओं के बारे में बताया।
सिद्धांत मुखर्जी ने कहा- सपनों को पूरा करता है कोटा। आईआईटियन बनने के सपने के साथ 11वीं कक्षा में पहुंचने के बाद सिद्धांत मुखर्जी दो साल से कोटा में पढ़ रहे थे। वह अपनी दादी के साथ रहते थे और उसके माता-पिता समय-समय पर उससे मिलने आते थे। पिता संदीप मुखर्जी एक जोखिम प्रबंधन कंपनी चलाते हैं और मां नबनिता मुखर्जी एक बैंक कर्मचारी हैं। परिवार मूल रूप से मुंबई का रहने वाला है।

वे कहते हैं- पूरे देश से छात्र यहां आते हैं, इसलिये आपको पढ़ाई के लिये सबसे अच्छा सहकर्मी समूह मिल सकता है। जेईई मेन टॉपर कहते हैं- मैंने जेईई मेन की तैयारी के लिये एनसीईआरटी पर गहराई से ध्यान केंद्रित किया। मैंने सटीकता पर सबसे ज्यादा ध्यान दिया। एलन में प्रतिस्पर्धा अच्छी है और शिक्षण पद्धति एकदम सही है।
अंशुल वर्मा बोले- मुझे क्रिकेट और शतरंज खेलने में दिलचस्पी रही है। रायपुर निवासी अंशुल वर्मा ने जेईई मेन फरवरी में 99.95 पर्सेंटाइल और मार्च के प्रयासों में 99.93 पर्सेंटाइल और जुलाई सत्र में 100 पर्सेंटाइल के साथ स्कोर किया। जेईई टॉपर कहते हैं- मैं दोनों परिणामों से संतुष्ट नहीं था। इसलिए मैंने जुलाई में तीसरा प्रयास दिया, जिसकी तैयारी में मुझे कोटा के विशेषज्ञ संकाय और अध्ययन सामग्री से बहुत समर्थन मिला। मैंने एनसीईआरटी पाठ्यक्रम और जेईई मेन विशेष विषयों पर अधिक ध्यान केंद्रित किया। उनके पिता डॉ. कृष्ण कुमार वर्मा पशु चिकित्सक हैं और मां दमयंती वर्मा सरकारी स्कूल की प्रधानाध्यापक हैं। वे कहते हैं- मैं दिन में 10 घंटे पढ़ता हूं और मनोरंजन के लिये क्रिकेट खेलने जाता हूं या अपने पिता के साथ शतरंज खेलता हूं।
समय का सदुपयोग करने की कोशिश करने वाले मृदुल अग्रवाल पिछले तीन साल से एलन इंस्टीट्यूट में पढ़ रहे थे। उन्होंने कहा- मैं एक दैनिक लक्ष्य के साथ अध्ययन करता हूं और उस विषय को पूरा करने के बाद ही सोता हूं। सुबह में, मैंने तैयार किया कि दिन के लिये क्या पढ़ना है और रोजाना 6 से 8 घंटे के लिये स्व-अध्ययन किया। लॉकडाउन के कारण मुझे अंतिम दिनों में लाभ हुआ। जेईई टॉपर का कहना है कि घर पर बैठकर ऑनलाइन पढ़ाई करने से बहुत मदद मिली। पिता प्रदीप अग्रवाल एक निजी फर्म में अकाउंट मैनेजर हैं जबकि मां पूजा अग्रवाल गृहिणी हैं। परिवार मूल रूप से जयपुर का रहने वाला है।
पुलकित गोयल कहते हैं- इस साल मैंने जेईई मेन के पहले प्रयास में 99.88, दूसरे प्रयास में 99.92, तीसरे प्रयास में 99.99 प्रतिशत अंक हासिल किये। इसके अलावा 12वीं में 94.8 फीसदी और 10वीं में 98.6 फीसदी अंक हासिल किये थे।एलन के पास पढ़ाई के लिए बहुत अच्छा माहौल है। यहां शिक्षण पद्धति सबसे अच्छी है, और संकाय बहुत सहायक हैं। यदि कोई संदेह है, तो संकाय मदद के लिए तैयार है। पिता विजय कुमार गोयल व्यवसायी हैं जबकि माता नीलम गोयल गृहिणी हैं। मैं रोजाना 7 से 8 घंटे सेल्फ स्टडी करता हूं और अब मेरा पूरा ध्यान जेईई एडवांस्ड को क्रैक करने पर है। मैं परिवार के साथ मनोरंजन के लिए समय बिताता हूं।
काव्या चोपड़ा कहती हैं- मैंने फरवरी के प्रयास में 99.97 प्रतिशत अंक प्राप्त किये थे लेकिन मेरा लक्ष्य 100 प्रतिशत अंक था, इसलिये मैंने जेईई मेन मार्च का प्रयास दिया। मैंने रसायन विज्ञान पर अधिक ध्यान केंद्रित किया और 15 दिनों की अवधि में मार्च के प्रयास दिये। मैं रोजाना 7-8 घंटे सेल्फ स्टडी करती हूं और तीनों विषयों को बराबर समय देती हूं। पिता विकास चोपड़ा सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं और मां शिखा चोपड़ा शिक्षिका हैं। परिवार दिल्ली में रहता है।
गुरमृत सिंह बताते हैं- मैं सुबह दो घंटे फिजिक्स पढ़ता हूं। इसके बाद मैं दिन में दो से तीन घंटे केमिस्ट्री और रात में गणित पढ़ता हूं। चूंकि तालाबंदी के दौरान कोचिंग कक्षाएं आयोजित नहीं की गईं, इसलिए मैंने आने-जाने के समय की बचत की और इसे अपनी पढ़ाई के लिये इस्तेमाल किया। लॉकडाउन से मुझे फायदा हुआ। समय पर ऑनलाइन कक्षाएं शुरू करना बहुत फायदेमंद था। पिता प्रियदर्शन सिंह कपड़ा व्यापारी और माता प्रीति गृहिणी हैं। परिवार मूल रूप से चंडीगढ़ में रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *