सम्राट चाैधरी और नीतीश कुमार की फाइल फोटो।

पंचायती राज मंत्री सम्राट बोले- दो से अधिक बच्चेवाले अभिभावकों को नहीं लड़ने देंगे चुनाव, नियम बन रहा

Patna : पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने आज जनसंख्या नियंत्रण पर बिहार में चल रहे घमासान की आग में घी डाल दिया है। यह आग अब ऐसे शांत होते भी नजर नहीं आ रही। सम्राट ने कहा है कि ऐसे लोगों को पंचायत चुनाव नहीं लड़ने दिया जायेगा, जनके दो से अधिक बच्चे हैं। इसके लिये विभागीय स्तर पर कार्रवाई चल रही है। उन्होंने यह भी कहा कि बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नगर निकाय चुनावों में पहले से यह व्यवव्था करवा रखी है। अब बस इसे पंचायत चुनावों में प्रभावी किया जायेगा। सम्राट चौधरी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा जनसंख्या नियंत्रण कानून का मसौदा पेश करने की वकालत करते हुये कहा कि अगर कानून नहीं लाया जायेगा तो जनसंख्या नियंत्रण नहीं हो सकेगा। पिछले 75 वर्षों से तो सामान्य जागरूकता फैलाकर जनसंख्या नियंत्रण का प्रयास कर लिया गया। अब समय है कानून लाकर इसे नियंत्रित करने का।

कल ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा था कि जनसंख्या नियंत्रण कानून की मदद से संभव नहीं है। इसके लिये सबसे जरूरी है महिलाओं को समाज में आगे बढ़ाना। महिलाओं को सशक्त करना। महिलाएं सशक्त होंगी तो जनसंख्या नियंत्रण स्वत ही हो जायेगा। मुख्यमंत्री का यह बयान देना था कि बिहार में इस पर बहस ही छिड़ गई। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल, उप मुख्यमंत्री रेणु देवी, पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी समेत तमाम भारतीय जनता पार्टी के नेता मयान से तलवार निकालकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर टूट पड़े। सब उनके बयान का विरोध कर रहे हैं। सबने जता दिया है कि बिना कानून जनसंख्या नियंत्रण संभव ही नहीं है।
पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी कुछ दूर और आगे बढ़कर पंचायत चुनावों में इसे प्रभावी करने पर जुट गये। हालांकि उन्होंने यह भी स्पष्ट किया है कि आनेवाले पंचायत चुनाव में इसको प्रभावी कर पाना संभव नहीं हो सकेगा लेकिन इसके बाद भविष्य में होने वाले पंचायत चुनावों में इसे प्रभावी किया जा सकता है। जदयू के संसदीय दल के नेता उपेंद्र कुशवाहा ने भी जनसंख्या नियंत्रण कानून पर भाजपा का बचाव किया और कहा कि कानून से जनसंख्या नियंत्रण में निश्चित रूप से मदद मिलेगी। जनता दल (यू) के नेता केसी त्यागी ने भी इस मसले पर अपनी बात कही। केसी त्यागी ने कहा कि हम जनसंख्या नियंत्रण के पक्षधर हैं, लेकिन कानून बनाकर नहीं बल्कि जागरूकता अभियान के जरिये इसे अंजाम देना चाहिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *