रामविलास पासवान की पहली बरसी पर पशुपति कुमार पारस और चिराग पासवान। Image Source : ANI

लोजपा टूट के बाद पारस-चिराग का पहली बार आमना-सामना, CM नीतीश नहीं आये, MP प्रिंस भी नदारद

Patna : रामविलास पासवान की पहली बरसी पर लोक जनशक्ति पार्टी की टूट के बाद पहली बार पशुपति कुमार पारस और चिराग पासवान का आमना सामना हुआ। पशुपति कुमार पारस बेहद भावुक नजर आये लेकिन चिराग और पारस में कोई खास बातचीत नहीं हुई। हालांकि सांसद प्रिंस राज और कृष्णा राज नहीं पहुंचे। दोनों लेह लद‍्दाख में छुट‍्टी मना रहे हैं। अलबत्ता जैसी उम्मीद की जा रही थी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने सबसे पुराने समाजवादी मित्र की पहली बरसी में शामिल होने के लिये नहीं पहुंचे। जब चिराग पासवान को मुख्यमंत्री ने मिलने का समय नहीं दिया तभी यह तय हो गया था कि वे नहीं आयेंगे फिर भी कइयों को उम्मीद थी कि वे कार्यक्रम में श्रद्धांजलि देने पहुंच सकते हैं। मुख्यमंत्री ने चिराग पासवान द्वारा भेजे गये निमंत्रण को भी स्वीकार नहीं किया। मुख्यमंत्री न तो स्वयं आयें और न ही उन्होंने अपना कोई प्रतिनिधि भेजा।

पटना के श्रीकृष्ण पुरी इलाके में चिराग के घर पर पहली बरसी की पूजा की गई। जिसके बाद चिराग पासवान श्रद्धांजलि सभा में पहुंचे और मीडिया से बातचीत की। जब उनसे मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने बताया कि सीएम को निमंत्रण भेजा गया है। मैंने उन्हें यहां लाने की पूरी कोशिश की। कल मेरे दोस्त उनसे मिलने गये, लेकिन वे उनसे भी नहीं मिले। हमारा निमंत्रण भी स्वीकार नहीं किया गया। कुछ पल ऐसे होते हैं जो राजनीति से ऊपर होते हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हमारे नेता और पिता के समकक्ष रहे हैं। बहुत अच्छा होता अगर वह ऐसे मौके पर दो मिनट के लिये आ जाते।
उधर, विभाजित लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष और चिराग के चचेरे भाई प्रिंस राज शाम पांच बजे तक अपने चाचा की जयंती पर नहीं पहुंचे थे। प्रिंस राज भी समस्तीपुर से सांसद हैं। इस मौके पर प्रिंस के बड़े भाई कृष्णा राज भी नहीं पहुंचे। दोनों भाई लेह लद्दाख में हैं। जिसके चलते उनकी फोटो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गई।
चिराग पासवान ने कहा कि जनता हमारे नेता और पिता को बहुत प्यार करती है, जो आज देखने को मिल रहा है। यही वजह है कि आज उनकी बरसी पर भीड़ उमड़ी है। यह दिखाता है कि लोग हमारे नेता से कितना प्यार करते हैं। आज सबकी आंखें नम हैं। आज लगभग एक साल हो गया है। सभी उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंचे हैं। हमारे लिये यह एक भावनात्मक दिन और क्षण है। इसका संदेश खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भेजा है। उन्हें याद कर प्रधानमंत्री भावुक हो रहे हैं। उन्हें अपने दोस्त बुला रहे हैं। एक-एक कर सभी नेता आ रहे हैं। राज्यपाल फागू सिंह चौहान का धन्यवाद, उन्होंने आकर परिवार के हर सदस्य से मुलाकात की। कई सांसद, विधायक, पार्षद आये हैं। चिराग ने कहा- मैं अपनी और परिवार की ओर से सभी का सम्मान करता हूं। मैं उनको धन्यवाद करता हूँ।

रामविलास पासवान को श्रद्धांजलि देने के लिये दोपहर से कई राजनीतिक दलों के नेता पहुंचे। नेता प्रतिपक्ष और पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव भी श्रद्धांजलि देने पहुंचे। विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा, विधान परिषद के अध्यक्ष अवधेश नारायण सिंह, वर्तमान डिप्टी सीएम और भाजपा नेता रेणु देवी, मंत्री श्रेयशी सिंह, मंत्री मंगल पांडे, राजद नेता श्याम रजक, अब्दुलबारी सिद्दीकी, भाजपा नेता और पूर्व मंत्री नंदकिशोर यादव, कांग्रेस के कई नेता, प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा सहित पहुंचे और श्रद्धांजलि दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *