पारस हॉस्पिटल ने ऑक्सीजन रोक 5 मिनट में 22 की जान ली, राहुल बोले- भाजपा सरकार में मानवता की भी कमी

New Delhi : आगरा के एक वीडियो ने सनसनी फैला दी है। यह वीडियो पारस हॉस्पिटल से जुड़ा है। आगरा के पारस अस्पताल पर आरोप लगा है कि जानबूझकर ऑक्सीजन बंद करने से 22 मरीजों की जान चली गई। वीडियो में अस्पताल संचालक डॉ. अरिंजय जैन बोलते हैं- कोरोना मरीजों की छंटनी के लिये 26 अप्रैल सुबह 7 बजे मॉक ड्रिल किया। ऑक्सीजन सप्लाई रोक दी गई। इस दौरान 5 मिनट में 22 मरीजों की जान चली गई थी। ऑक्सीजन की व्यवस्था न होने पर डॉक्टर ने 26 अप्रैल सात बजे पांच मिनट की मॉक ड्रिल की थी। जैन ने पहले मरीजों का बिल बनवाया और बाद में ऑक्सीजन की कमी का हवाला देकर परिजनों को व्यवस्था करने का नोटिस भेजा। वीडियो सामने आने के बाद जैन ने कहा- मैं स्टाफ से बात कर रहा था। मॉक ड्रिल का मतलब ऑक्सीजन लेवल नापना था। उन्होंने कहा- बातचीत का वीडियो तोड़-मरोड़कर पेश किया गया है।

पारस हॉस्पिटल वैसे भी अक्सर विवादों में रहता है। कोरोना की पहली लहर के दौरान यहां से 10 जिलों में कोरोना फैलने का आरोप लगा था। तब डॉक्टर, मैनेजर पर महामारी एक्ट में केस दर्ज हुआ था। इस मसले पर आगरा के डीएम पीएन सिंह ने कहा- 27-28 अप्रैल को ऑक्सीजन की कमी हुई थी। हमने व्यवस्था करवाई थी। पारस में भी सप्लाई की गई थी। जिस दिन का वीडियो में जिक्र है, उस दिन पारस में सिर्फ तीन जान गई थी। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।
इधर कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा ने “मॉक ड्रिल” की खबरों पर सरकार की लानत मलामत की है। प्रियंका गांधी ने उस वीडियो को भी ट्वीट किया, जिसमें पारस अस्पताल के मालिक डॉ अरिंजय जैन को यह कहते हुये सुना जा सकता है कि पांच मिनट के लिये ऑक्सीजन की आपूर्ति बंद कर दी गई और उस दौरान 22 लोगों की जान चली गई।
राहुल गांधी ने ट‍्वीट किया- भाजपा शासन में ऑक्सीजन और मानवता दोनों की भारी कमी है। इस खतरनाक अपराध के लिये जिम्मेदार सभी लोगों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई की जानी चाहिये। दुख की इस घड़ी में मृतकों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं।

प्रियंका गांधी ने इस वीडियो के साथ ट‍्वीट किया- PM: “मैंने ऑक्सीजन की कमी नहीं होने दी” CM: “ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं। कमी की अफवाह फैलाने वालों की संपत्ति जब्त होगी।” मंत्री: “मरीजों को जरूरत भर ऑक्सीजन दें। ज्यादा ऑक्सीजन न दें।” आगरा अस्पताल: “ऑक्सीजन खत्म थी। 22 मरीजों की ऑक्सीजन बंद करके मॉकड्रिल की।” ज़िम्मेदार कौन?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *