राजद नेता जगदानन्द और केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस। Image Source : tweeted by @ians_india and @PIBAgartala

पारस बोले- जगदानंद पार्टी में आये तो अच्छा होगा, हमें खुशी होगी, उनका सम्मान होना चाहिये

Patna : लोक जनशक्ति पार्टी के वारिस चिराग पासवान को बेदखल करने के बाद हाल ही में केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल हुये पशुपति कुमार पारस को अब अपनी पार्टी चलाने के लिये राष्ट्रीय जनता दल से नेता उधार चाहिये। जी हां, पारस ने बिहार की राजनीति में एक नया दांव लगाया है। पशुपति पारस ने मंगलवार को राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के प्रदेश अध्यक्ष को अपनी पार्टी (लोजपा-पारस गुट) में शामिल होने की पेशकश की है। पारस ने कहा कि जगदानंद सिंह बहुत वरिष्ठ नेता हैं। उनका सम्मान किया जाना चाहिये। अगर वह हमारी टीम में शामिल होते हैं तो यह अच्छा और खुशी की बात होगी। वर्तमान में राजद में जगदानंद को लगातार लालू के लाल तेज प्रताप अपमानित कर रहे हैं। हाल ही में पार्टी ऑफिस में भी सार्वजनिक रूप से अपमानित कर दिया।

अब पशुपति पारस को लग रहा है कि यही सही समय है जगदानंद को अपने साथ लाने का। राष्ट्रीय जनता दल में लंबे समय से जगदानंद सिंह को लेकर कानाफूसी चल रही है। पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव से उनकी नाराजगी की खबरें आ रही हैं। इस बीच जगदानंद सिंह मंगलवार को भी पार्टी कार्यालय नहीं पहुंचे। लालू यादव के छोटे बेटे और उनकी गैरमौजूदगी में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने पार्टी नेताओं से मुलाकात की। पत्रकारों से बात करते हुये उन्होंने जगदानंद सिंह की नाराजगी की खबरों को खारिज किया। उन्होंने कहा कि यह सब सिर्फ मीडिया की धारणा है।
तेजस्वी यादव ने कहा कि पार्टी कार्यालय में नहीं आने का मतलब यह नहीं है कि कोई नाराजगी है। यह बिल्कुल भी सही नहीं है। कोई व्यक्तिगत कारण भी हो सकता है। वहीं लोजपा-पारस के अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस से इस बारे में पूछे जाने पर कहा कि तेज प्रताप यादव ने जगदानंद सिंह के साथ जो किया उसकी हम निंदा करते हैं। वह हमारी पार्टी में आयेंगे तो खुशी होगी। लेकिन यह भविष्य की बात है।
गौरतलब है कि इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (एचयूएम) ने जगदानंद सिंह को ऑफर दिया था। हमने कहा था कि जगदानंद सिंह आयेंगे तो पार्टी उन्हें पूरा सम्मान देगी। कहा जा रहा है कि पिछले दिनों युवा राजद के एक कार्यक्रम में तेज प्रताप यादव द्वारा दिए गए बयान के बाद से ही जगदानंद सिंह नाराज चल रहे हैं। तब तेज प्रताप ने कहा था कि लोगों को समझना चाहिये कि कुर्सी किसी की विरासत नहीं है। आज किसी के पास है, कल किसी के पास होगा। कुछ लोग हिटलर रह जाते हैं। जगदानंद सिंह पिछले कुछ दिनों से पार्टी कार्यालय नहीं जा रहे हैं। इससे पटना की सियासत में उनकी नाराजगी के चर्चे तेज हो गये हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *