Photo is reprensetative purpose only. Photo credit- The Quint

घर चलाने को फिक्स डिपोजिट तोड़े : पहले 3 दिन में 15 करोड़ नगद निकलते थे एटीएम से अब 1 दिन में

New Delhi : कोरोना में पूरे देश में सिर्फ दो लोगों की संपत्ति बढ़ी है। मुकेश अंबानी और गौतम अडानी की। गौतम अडानी ने तो कोरोना संकट शुरू होने से लेकर अभी तक करीब 32 बिलियन अमेरिकी डॉलर का इजाफा अपनी संपत्ति में कर लिया। करीब 24 हजार करोड़ रुपये। यह रकम इन उद्योगपतियों ने कैसे बढ़ाई ये तो बस वही जानते हैं। खासकर तब जबकि पूरा देश ही नहीं दुनिया भी बंद रहा। बहरहाल, हमारी और आपकी सच्चाई धरातल पर कुछ अलग है। और पटना के ट्रांजेक्शन रिकॉर्ड इसकी ताकीद कर रहे हैं। यहां पर लोग अपनी बैंक में रखी जमा पूंजी को तोड़ तोड़ कर अपना जीवन यापन कर रहे हैं। अपने बेटा-बेटी की शादी, अपने भविष्य को कुछ बेहतर बनाने के लिये जमा की गई पूंजी को तोड़ रहे हैं ताकि आज जिंदा रहा जा सके।

यह दर्दनाक तस्वीर पूरे देश की तस्वीर बयां कर रही है। आंकड़ा कुछ ऐसा है कि आम दिनों में बिहार के जो एटीएम तीन दिनों में खाली होते थे, अब रोज खाली हो रहे हैं। सुबह कैश भरा जा रहा और शाम तक नो कैश का बोर्ड लटक जा रहा। बिहार इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के अध्यक्ष रामलाल खेतान कहते हैं कि जब रोज की कमाई बंद होगी तो लोग जमा पूंजी ही खाएंगे। दूसरा विकल्प ही क्या है? ऑल इण्डिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन के संयुक्त सचिव, डीएन त्रिवेदी ने बताया कि राज्य में 6 करोड़ लोगों के पास एटीएम कार्ड है व 7 हजार एटीएम है। एटीएम में रोज 15 करोड़ का नगद डाला जाता है। पहले यह 2 से 3 दिन चलता था, अब एक दिन में खत्म हो जा रहा है। ऐसा दो महीने से हो रहा। लोगों ने बैंकों में राशि जमा करने की तुलना में निकासी अधिक की है। कोरोना से पहले राज्य के एटीएम में एक बार रुपया लोड करने पर चलता था दो दिन, अभी रोज भरा जाता है करीब 15 करोड़ रुपए और शाम होते ही खत्म हो जा रहा है।
वित्तीय वर्ष 2020-21 की अंतिम तिमाही यानी जनवरी, फरवरी और मार्च तक राज्य के बैंकों में करीब 3,02,498 करोड़ रु. जमा था। मार्च से अप्रैल के बीच इस राशि में करीब 16% की कमी आई है। बैंकों की जमा पूंजी 254098 करोड़ रह गई है। रिजर्व बैंक के आकड़े भी बताते हैं कि कोरोना आपदा में बैंकों से उपभोक्ता बड़े पैमाने पर राशि निकाल रहे हैं। पहले बचत खाते से लेकिन अब लोग फिक्स्ड डिपॉजिट भी तोड़ने लगे हैं। मतलब यह कि कोरोना की चोट काफी गहरी है और अब इसका आर्थिक असर जोरदार ढंग से दिखने लगा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *