पीएम मोदी ने शाही लीची के स्वाद की तारीफ की, कहा- देश ऐसे ही अपने स्वाद एवं उत्पादों से भरा पड़ा है

New Delhi : लीची का जीआई टैग मिलने के बाद आज फिर से इससे जुड़े विज्ञानियों और किसानों का सीना चौड़ा हो गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मन की बात में शाही लीची का उल्लेख किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि इससे किसानों को बहुत ज्यादा फायदा होगा। जीआई टैग मिल जाने से शाही लीची को पूरी दुनिया में एक विशिष्ट पहचान मिल गई है। प्रधानमंत्री ने कहा कि मौजूदा विकट परिस्थितियों में भी देश के किसानों ने मान बढ़ाकर रखा है। कृषि व्यवस्था पूर्व की भांति सुदृढ़ है। किसानों ने अपना लक्ष्य हासिल करने की दिशा में मजबूती से काम किया है। कृषि ने कोरोनाकाल में भी प्रगति की है। कृषि के क्षेत्र में साइंटिफिक प्रयोगों को पूरी तवज्जो दी जा रही है। हमें विश्व में कैसे आगे बढ़ना है यह हम जान रहे हैं और बहुत खुशी होती है यह बताते हुये कृषि क्षेत्र भविष्य की संभावनाओं के लिहाज से काम कर रहा है।

बता दें कि इसी हफते लीची का एक बड‍़ा स्टॉक जीआई टैग के साथ एक्सपोर्ट किया गया है। यह पहली खेप है जो लंदन भेजी गई है। अहम बात यह है कि वर्ष 2018 में शाही लीची को जीआई टैग मिला तो यह प्रमाणपत्र पाने वाला बिहार का चौथा कृषि उत्पाद हो गया। इसके पहले जर्दालु आम, कतरनी चावल और मगही पान को यह प्रमाणपत्र मिल चुका है। वैसे राज्य में अब तक कई हस्तकला को भी यह प्रमाण पत्र मिल चुका है। मधुबनी पेंटिंग को 2006 में ही यह प्रमाणपत्र मिला था। उसके बाद एप्लिक कटवा पैच, सुजनी इंब्रायडरी और सिक्की कला को भी वर्ष 2007 से 2012 के बीच जीआई टैग मिला था। इन कलाओं के लोगों को वर्ष 2016 और 2017 में जीआई टैग मिला था।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा – जीआई टैग ने शाही लीची की पहचान मजबूत की है। इससे किसानों को ज्यादा फायदा होगा। बिहार की शाही लीची हवाई मार्ग से लंदन भेजी गई है। देश ऐसे ही अपने स्वाद एवं उत्पादों से भरा पड़ा है। उन्होंने किसानों का आभार व्यक्त किया। इस महामारी में किसानों ने रिकॉर्ड उत्पादन किया। देश ने रिकॉर्ड फसल खरीदारी भी की है। बिहार के कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने भी इसपर खुशी व्यक्त की है। उन्होंने बिहार की लीची की चर्चा और किसानों का उत्साहर्धन करने के लिए पीएम के प्रति आभार जताया है। उन्होंने कहा है कि इससे दूसरे किसान भी काफी उत्सहित होंगे और बिहार को लाभ होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *