सेना के जवानों के साथ दीपावली मनाते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। Image Source : tweeted by @narendramodi... official id of PM Modi

दीपावली पर सैनिकों से पीएम मोदी बोले- सर्जिकल स्ट्राइक में आपकी भूमिका पर गर्व है

New Delhi : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि 2016 में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार सर्जिकल स्ट्राइक भारत की सेना के संकल्प और क्षमताओं का प्रतीक है और उन्होंने खुद ऑपरेशन की निगरानी तब तक की जब तक कि सर्जिकल स्ट्राइक करने के बाद अंतिम सैनिक सुरक्षित वापस नहीं आ गया। भारत ने जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में सेना के अड्डे पर आतंकवादी हमले की प्रतिक्रिया के रूप में 29 सितंबर, 2016 को नियंत्रण रेखा के पार सर्जिकल स्ट्राइक की थी।
दीवाली के अवसर पर जम्मू और कश्मीर में सीमावर्ती जिले राजौरी के नौशेरा सेक्टर में प्रधानमंत्री ने कहा- हमारे सैनिक ‘मां भारती’ के ‘सुरक्षा कवच’ हैं। यह आप सभी की वजह से है कि हमारे देश के लोग चैन की नींद सो पाते हैं और त्योहारों के दौरान खुशी मिलती है।

उन्होंने कहा कि पांच साल पहले सर्जिकल स्ट्राइक के बाद आतंकवाद फैलाने की कोशिश की गई थी, लेकिन उन्हें मुंहतोड़ जवाब दिया गया। उन्होंने कहा- सर्जिकल स्ट्राइक में, आपके योगदान को देश याद रखेगा। मैं कॉल का बेसब्री से इंतजार कर रहा था, मैं नहीं चाहता था कि कोई पीछे रहे। लेकिन आप विजेता के रूप में सामने आये।
उन्होंने कहा कि भारत को बदलती दुनिया और युद्ध के तरीकों के अनुरूप अपनी सैन्य क्षमताओं को बढ़ाना चाहिये।
प्रधानमंत्री के रूप में पदभार संभालने के बाद से, पीएम मोदी ने 2014 में सियाचिन की यात्रा से शुरू होकर, दिवाली पर सीमावर्ती क्षेत्र में सैनिकों से मिलने का एक प्रोग्राम बनाया है। यह दूसरी बार है जब पीएम मोदी जिले में सैनिकों के साथ दिवाली मना रहे हैं।
पीएम मोदी के दौरे से पहले सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे कल जम्मू पहुंचे और सुरक्षा स्थिति का जायजा लेने के लिये अग्रिम इलाकों का दौरा किया।
सीमावर्ती जिलों पुंछ और राजौरी में हिंसा में तेजी आई है और पिछले तीन हफ्तों में 11 सैनिक मारे गये हैं। सेना पिछले 24 दिनों में पुंछ-राजौरी वन क्षेत्र में सबसे लंबे आतंकवाद विरोधी अभियानों में से एक में लगी हुई है। ऑपरेशन में नौ जवानों की जान चली गई है लेकिन अभी तक इस क्षेत्र में छिपे आतंकवादियों के खिलाफ कोई सफलता नहीं मिली है।
2019 में, प्रधान मंत्री ने राजौरी में एक सेना डिवीजन में दिवाली मनाई, और इस बार वह नौशेरा में सैनिकों के साथ त्योहार मना रहे हैं, जो एलओसी के करीब है। पिछले हफ्ते इसी सेक्टर में एक विस्फोट में एक अधिकारी समेत दो जवान शहीद हो गये थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *