डॉ. राजीव, अपनी पत्नी और बच्चों के साथ। Image Source : facebook/askrajeev

पावरफुल कपल बंदी- डॉ. पति को छोड़ जिम ट्रेनर के लिये पागल थी खुशबू, नहीं माना तो गोलियों से छलनी करवाया

Patna : इश्क और मुश्क छुपाये नहीं छिपते। और आज के टेक्नोलॉजी के युग में अगर पुलिस पीछे पड़ जाये तब तो यह संभव ही नहीं है। चुटकी बजाते कई राज बेपर्द हो जाते हैं। आज राजधानी पटना में भी कुछ ऐसा ही हुआ। पटना का बहुत पॉवरफुल कपल पुलिस की हिरासत में है। सुबह से। अभी तक उनकी गिरफतारी की पुष्टि तो नहीं हुई है लेकिन इतना तय है कि अब कपल को लंबा इंतजार करना होगा। पति राजधानी के जानमाने डॉक्टर हैं। आयेदिन उनके कॉलम अखबार की सुर्खियां बनते हैं। उनकी सक्सेस स्टोरी देश के लगभग हर हिस्से में और हर मीडिया हाउस में पब्लिस्ड है। पटना के लिहाज से पिछले कुछ वर्षों में वे एक सेलेब्रिटी स्टेटस मेंटेन कर रहे थे। और इसी बीच उनकी पत्नी के पांव फिसल गये। अपने ही जिम ट्रेनर से इश्क लड़ाने लगी। दिन को चैन नहीं, रात भी बेचैनी में। फिर क्या था… खुशहाल शादीशुदा जिंदगी में आग लग गई। बच्चा बुजुर्गों के पास है और मियां-बीवी पुलिस की हिरासत में।





जी हां, हम बात कर रहे हैं, शनिवार की सुबह पटना के कदमकुआं इलाके में हुई जिम ट्रेनर पर जानलेवा हमले की। इस मामले में पटना के राजीव कुमार सिंह उर्फ डॉ राजीव अपनी पत्नी खुशबू सिंह के साथ पुलिस हिरासत में हैं। उनसे अपनी पत्नी के जिम ट्रेनर से रिश्ते बर्दाश्त नहीं हुये और उन्होंने कुछ ऐसा किया जिससे उनके सारे सपने बिखर गये। पटना में उनके नजदीकी रिश्तेदार, दोस्त-यार सभी शॉक में हैं, क्योंकि डॉ. राजीव बेहद हंसमुख प्रकृति के थे। बेहद मिलनसार। हाईप्रोफाइल डॉक्टर जो दोस्तों के लिये हमेशा उपलब्ध होते थे।
जिम ट्रेनर फिलहाल आईसीयू में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहा है। उसे जब घायल होने के बाद हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया तो उसने पुलिस के सामने बेहोश होने से पहले जो बयान दर्ज कराया उसमें डॉ. राजीव और उसकी पत्नी का नाम सामने आया। पुलिस ने डॉ. राजीव की पत्नी और जिम ट्रेनर के मोबाइल का कॉल डिटेल रिकॉर्ड मंगाया तो सभी दंग रह गये। कुछ ही दिनों में दोनों के बीच 1100 कॉल हुये। हजारों मैसेजेस। पुलिस के सामने सीडीआर आते ही सबकुछ बेपर्द हो गया। अब बस साजिश की गुत्थियों का राज खुलना बांकी है।





बता दें कि आज सुबह कदमकुआं में जिम ट्रेनर विक्रम पर हमला हुआ। सुबह करीब छह बजे विक्रम पटना मार्केट स्थित सिटी जिम जाने के लिये घर से निकला था। फिलहाल वह वहां ट्रेनर हैं। इससे पहले वह कंकड़बाग और बोरिंग रोड के जिम में ट्रेनर भी रह चुका है। जैसे ही वह बुद्ध प्रतिमा के पास लोहे की गली में पहुंचे, दोनों ओर खड़े अपराधियों ने उन्हें गोली मार दी। हाथ में दो गोली, पैर में दो और कमर के पास एक गोली लगने के बाद भी विक्रम ने हिम्मत नहीं हारी।
गोली लगने के बाद भी विक्रम खुद स्कूटी से सबसे पहले उस इलाके के एक बड़े निजी अस्पताल में गया। उसके शरीर से खून निकल रहा था। इसके बावजूद उस बड़े निजी अस्पताल ने उन्हें भर्ती नहीं किया। इसके बाद वह वहां से करीब ढाई किलोमीटर की दूरी तय कर खुद पीएमसीएच पहुंचे। फिर वहां से उसके पिता को फोन कर फायरिंग की जानकारी दी। कमर के पास लगी गोली शरीर में फंसी है। जबकि, डॉक्टरों ने सर्जरी के बाद बाकी गोली को हटा दिया है।
26 वर्षीय विक्रम का परिवार मूल रूप से बांका के गांव हरपुर का रहने वाला है। पिता हरे राम सिंह इंटीरियर डिजाइनर हैं। विक्रम दो भाई और एक बहन में सबसे बड़ा है। पूरा परिवार लोहानीपुर में गौरैया स्थान के पास किराये के मकान में रहता है।

जिम ट्रेनर विक्रम सिंह सेलेब्रिटी के साथ।


घायल विक्रम का छोटा भाई भी जिम ट्रेनर है। उसने बताया – खुशबू सिंह मेरे भाई का जबरन पीछा कर रही थी। जब मेरे भाई ने बात करना बंद किया तो वो घर के नीचे पहुंच गई। वह रोने लगी। तमाशा किया। मोहल्ले के लोग भी देख रहे थे। यह घटना 3 से 4 महीने पहले की है। खुशबू सिंह की वजह से मेरे भाई को उसके पति डॉ राजीव कुमार सिंह ने गोली मरवा दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *