राहुल गांधी के भारत जोड़ो यात्रा में पहुंचे लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव, सोशल मीडिया में फोटो वायरल

PATNA- अभी अभी इस वक्त की एक बड़ी खबर बिहार के सासाराम से सामने आ रही है बताया जाता है कि कांग्रेस सांसद राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा एक बार फिर बिहार से शुरू हो चुकी है और सासाराम पहुंची है। इसी बीच खबर आ रही है कि बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव कांग्रेस नेता राहुल गांधी के भारत जोड़ो यात्रा में शामिल हुए हैं। तेजस्वी यादव ने सोशल मीडिया में कुछ तस्वीरें जारी की है जिसमें दिख रहा है कि तेजस्वी यादव, राहुल गांधी और मीरा कुमार एक गाड़ी में बैठे हुए हैं। ड्राइविंग सीट पर खुद तेजस्वी यादव मोर्चा संभाल रहे हैं। तस्वीरें जारी होने के बाद से बिहार की राजनीति गर्मा गई है। राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि इस तस्वीर के माध्यम से कांग्रेस ने स्वीकार कर लिया है कि आगामी लोकसभा चुनाव के दौरान ड्राइविंग सीट पर आरजेडी अर्थात राष्ट्रीय जनता दल का कब्जा रहेगा….

कानपुर की घनी आबादी में राहुल की यात्रा को मंजूरी नहीं, मुस्लिम बहुल इलाकों से निकालने की थी मांग, जानिए वजह : कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा कानपुर में कुछ ही किमी का सफर तय करेगी। गंगा पुल से कानपुर में प्रवेश करने के बाद 3-4 किमी आगे घंटाघर पर 21 फरवरी को जनसभा होगी। सूत्रों के अनुसार, पार्टी संगठन और कार्यकर्ता चाहते थे कि राहुल गांधी मूलगंज और लाटूश रोड जैसे मिश्रित और घनी आबादी के क्षेत्रों में भी जाएं, लेकिन यात्रा के सुरक्षा समन्वयकों ने सुरक्षा कारणों के आधार पर इसे नहीं माना।

कानपुर में बीते कई दशकों से कांग्रेस का आधार काफी मजबूत रहा है। 1999 से लेकर 2014 तक श्रीप्रकाश जायसवाल कांग्रेस के टिकट पर कानपुर से सांसद चुने गए थे। 2014 में मुरली मनोहर जोशी से हारने के बाद श्रीप्रकाश ने 2009 के मुकाबले ज्यादा वोट हासिल किए थे। कांग्रेस के शीर्ष नेता भी चुनावों में रोड शो और जनसंपर्क करने के लिए कानपुर आते रहे हैं। 2022 के विधानसभा चुनावों में समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव रोड शो लेकर मुस्लिम बहुल इलाकों में गए थे। वहां उमड़ी भारी भीड़ का असर ये हुआ था कि समाजवादी पार्टी को तीन सीटें मिली थीं।

ऐसे में कांग्रेसियों को उम्मीद थी कि कमजोर होती पार्टी को राहुल की भारत जोड़ो न्याय यात्रा से ऑक्सिजन मिल सकती है। यात्रा का रूट कानपुर तय होते ही कार्यकर्ताओं ने शीर्ष नेतृत्व के सामने मांग रखी थी कि घंटाघर में जनसभा के बाद यात्रा को हालसी रोड और मूलगंज के बाद लाटूश रोड सरीखे मुस्लिम बहुल इलाकों से गुजारा जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *