महागठबंधन में किसे कितनी सीट, यहां जानिए, NDA अभी वेटिंग में, खबर में ड्रामा भी

पटना

बिहार चुनाव के नतीजे चाहे जो हों लेकिन एक फ्रंट पर महागठबंधन बाजी मारते नजर आ रहा है। महागठबंधन ने शनिवार शाम सीट बंटवारे का ऐलान कर दिया है। हमने अपनी शुक्रवार की रिपोर्ट में ही आपको बता दिया था कि महागठबंधन में सीटों को लेकर सहमति बनती दिख रही है। आज वही हुआ जो हमने आपसे कहा था। महागठबंधन ने तेजस्वी यादव को अपना सीएम चेहरा माना और पार्टी के हिसाब से सीटों की घोषणा कर दी। हालांकि महागठबंधन की प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक ड्रामा भी देखने को मिला है। खैर इस ड्रामे की जानकारी पर बाद में आएंगे। एक तरफ महागठबंधन ने सीटों का ऐलान कर दिया वहीं एनडीए में अभी घमासान चालू है।

राजद को 144, कांग्रेस को 70,बाकी को मिला ये

बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और महागठबंधन का चेहरा तेजस्वी यादव ने सीट शेयरिंग फॉर्म्युले की घोषणा की है। तेजस्वी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि राजद 144 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। इसी तरह कांग्रेस के खाते में 70 सीटें आई हैं। इसके अलावा कांग्रेस महागठबंधन की तरफ से वाल्मिकी नगर लोकसभा सीट के उपचुनाव में अपना कैंडिडेट उतारेगी। सीपीआई एम को 4 सीटें, सीपीआई को 6 और सीपीआई एमएल को 19 सीटें दी गई हैं। इस तरह इस बार महागठबंधन के साथ वाम दलों की ताकत भी बनी हुई है।

बीच कॉन्फ्रेंस जब खफा हुआ साहनी

महागठबंधन की शनिवार शाम को हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में बड़ा ड्रामा भी देखने को मिला। कॉन्फ्रेंस की शुरुआत में ही विकासशील इंसान पार्टी के मुखिया मुकेश साहनी ने कहा कि उनके साथ धोखा हुआ है। मुकेश साहनी ने महागठबंधन से अलग होने का ऐलान करते हुए कॉन्फ्रेंस बीच में ही छोड़ दी। उन्होंने कहा कि वह रविवार को मीडिया को संबोधित करेंगे। आपको बता दें कि साहनी अपनी पार्टी के लिए 25 सीटें और खुद के लिए डिप्टी सीएम की सीट मांग रहे थे। लेकिन उनकी यह मांग पूरी नहीं हो पाई।

एनडीए के घर में झगड़ा भारी

एक तरफ तो महागठबंधन सीट बंटवारे का ऐलान कर मैदान में कूद गया है। वहीं दूसरी तरफ सत्तारूढ़ गठबंधन एनडीए को अभी घर के झगड़े से ही फुर्सत नहीं मिली है। अबतक केवल चिराग पासवान के रूठने की खबर आ रही थी। लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स अब एक नई भिड़ंत का दावा कर रही हैं। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि भाजपा ने जदयू के बराबर सीटों पर लड़ने की दावेदारी ठोक दी है। ऐसे में बिहार में नीतीश कुमार के बिग ब्रदर होने की छवि संकट में है। रिपोर्ट्स की मानें तो जदयू भाजपा की इस मांग को लेकर सहमत नहीं है और अब भी अधिक सीटों पर चुनाव लड़ने को लेकर अड़ी हुई है। इस हफ्ते बीजेपी के चुनाव प्रभावी देवेंद्र फडणवीस और बिहार भाजपा प्रभारी भूपेंद्र यादव ने बहुत कोशिश की कि सीट शेयरिंग का मामला सुलझे लेकिन ये और उलझता नजर आ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *