रोसड़ा स्थित कबीर मठ।

रोसड़ा का कबीर मठ और होली के लिए प्रसिद्ध भिरहा गांव बनेगा पर्यटन स्थल, बिहार सरकार ने मांगी रिपोर्ट

पटना : समस्तीपुर जिला अंतर्गत रोसड़ा स्थित कबीर मठ और होली के लिए प्रसिद्ध भिरहा गांव अब बिहार के पर्यटन स्थलों में शामिल होगा। कबीरपंथियों का पवित्र स्थल कबीर मठ और भिरहा गांव से जुड़ी रिपोर्ट बिहार सरकार ने मांगी है। विधानसभा की पर्यटन उद्योग संबंधी समिति की बैठक के बाद उप सचिव ने रोसड़ा के कबीर मठ एवं मशहूर होली स्थल भिरहा को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए वरीय पदाधिकारी एवं विभाग से रिपोर्ट मांगी है। गौरतलब है कि रोसड़ा में फिलहाल तीन-तीन कबीर मठ मंदिर हैं। कोई मठ प्रचार-प्रसार का काम कर रहा है तो कहीं भंडारा और कबीर मंदिर द्वारा हर साल भव्य निर्वाण महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। बताया जाता है कि आचार्य स्थान कबीर मठ, लक्ष्मीपुर बगीचे का इतिहास पौराणिक है। 750 साल पहले स्थापित इस मठ पर महान संत कबीर जी का पर्दापण हुआ था। कबीर के सीधे अनुयायी धर्म दास द्वारा मठ में प्रेमदास और खेदी दास द्वारा जीवित समाधि लेने की भी चर्चा रही है। महादेव मठ स्थित वचनवंशी गद्दी की स्थापना 1806 में कबीर के अनुयायी कृष्ण कास्ख साहेब द्वारा की गई थी। वर्तमान में महंत सुरेश दास का कहना है कि मठ के लाखों अनुयायी के साथ-साथ दो हजार से अधिक शाखाएं हैं। यहां कई राज्यों के अलावा नेपाल, भूटान से भी कबीर अनुयायी आते हैं। रोसड़ा कबीरपंथियों का गढ़ माना जाता है।

होली के लिए मशहूर भिरहा गांव।

बिहार में पर्यटन का हब बनेंगे कैमूर समेत 5 जगह
बिहार में पर्यटकों को लुभाने के लिए लगातार योजनाएं बनाई जा रहीं हैं। सूबे के पांच और जगहों को पर्यटन विभाग विकसित करने जा रहा है। इन पांच जगहों को पर्यटन का हब बनाया जाएगा। इनमें वैशाली, कैमूर, गया आदि शामिल हैं। इन जिलों में पर्यटन सुविधाओं को काफी विकसित करने को लेकर योजनाएं बनाई जा रहीं हैं। राज्य पर्यटन विकास निगम के सचिव संतोष मल्ल ने बताया कि वैशाली में बुद्ध सम्यक दर्शन संग्राहलय बनाया जा रहा है। इसके निर्माण पर विभाग 300 करोड़ रुपए खर्च कर रहा है। इसके अलावा मुंडेश्वरी, रोहतास गढ़, गया के प्रेतशिला, वाणावर आदि जगहों पर रोपवे बनवाया जा रहा है। इस साल राजगीर और बांका जिले के मंदिर पर्वत पर रोपवे चालू कर दिया गया है। इतना ही नहीं बोध गया में बहुद बड़ा एवं आकर्षक अतिथिशाला का निर्माण जारी है। बौद्ध सर्किट, रामायण सर्किट, सिख सर्किट और अन्य कई तरह के सर्किट को भी जोड़ने की योजना बनी हुई है। इसको लेकर विभागीय कार्यवाही चल रही है।

वाल्मीकि नगर में बनेगा इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर
राज्य पर्यटन विकास निगम के सचिव संतोष मल्ल के मुताबिक वाल्मीकि नगर में इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर बनाने की योजना है। जल्द राजगीर में जंगल सफारी का उद्‌घाटन किया जाना है। जंगल सफारी बनकर तैयार हो चुका है। इस महीने के अंत तक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उसका उद्‌घाटन कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *