किशोर कुमार

साइंस टीचर ने जुगाड़ से बनाई ई-बाइक, 70 किमी का देती है माइलेज

मधेपुरा : मधेपुरा में विज्ञान के शिक्षक ने कबाड़ से इलेक्ट्रिक बाइक बना दी। उनके पास जो बाइक थी उसे ही ई-बाइक बनाकर उसका प्रयोग कर रहे हैं। दरअसल किशोर कुमार सिंह की अमित इलेक्ट्रॉनिक नाम से एक दुकान है। 10 सालों से वो इलेक्ट्रॉनिक बाइक बनाने का काम कर रहे हैं। वह पहले ही दो बाइक बना चुके थे, लेकिन उसमें उन्हें सफलता नहीं मिली। इस बार उन्हें सफलता हाथ लगी है। यह बाइक लुक में भी काफी अच्छी है।

दरअसल, यह बाइक यामहा की RX 100 है। इसका उत्पादन सालों पहले बन्द हो गया है। अब यह बाइक या तो कबाड़ में मिलती है या लोग शौक से अपने घर में रखते हैं। किशोर ने भी इसे 3 हजार में कबाड़ से ही खरीदी और इलेक्ट्रिक बाइक में बदल दिया। इसके इंजन को निकालकर चमचमाते स्टील बॉक्स में लिथियम आयन बैटरी डाली गई है। एयर बॉक्स में चार्जर और इसका चार्जिंग पॉइंट बनाया गया है। सबसे मुश्किल काम मोटर सेट करना था ताकि चक्का घूम सके। इसके लिए किशोर ने हब मोटर ऑनलाइन मंगवाई। इसे यामहा के चक्के में सेट करना भी काफी मुश्किल था। किशोर ने यामहा के हब में पल्सर के हब को सेट किया और उसमें मोटर लगा दी।

ई-बाइक के साथ किशोर कुमार

मधेपुरा के किशोर कुमार 10 सालों से इलेक्ट्रॉनिक बाइक बनाने का काम कर रहे है। अब कबाड़ की 3 हजार की बाइक इलेक्ट्रिक बाइक में बदल गई। किशोर ने बताया कि यह बाइक एक बार चार्ज होने पर 50 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से 70 किलोमीटर तक चलती है। उन्होंने बताया कि अब वह अपना काम इसी बाइक से निपटाते हैं। बढ़ते तेल के दाम से यह काफी सस्ता है।
किशोर के दोस्त ने बताया कि किशोर को बचपन से ही इलेक्ट्रॉनिक से काफी लगाव रहा था। छोटी उम्र से ही बच्चों को विज्ञान की शिक्षा देने के साथ-साथ इलेक्ट्रॉनिक में नया-नया प्रयोग करते रहते हैं। जब बाजार में इनवर्टर नहीं आया था, तब उन्होंने अपने हाथ से इनवर्टर बनाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *