कुर्सी की छीना-झपटी : MLA ने कुर्सी के लिये डॉ. को हड़काया, प्रोटोकॉल समझाया, डॉ. अड़ा- आदेश दिखाओ

पटना : एक बार राजनेता बन जाये तो आदमी ऐसे ही कुछ टेढ़ा हो जाता है और विधायक या सांसद बन जाये तो बदतमीजी का तो जैसे टैग मिल जाता है। कारोना महामारी के इस दौर में राजनेताओं का दिमाग सातवें आसमान पर ही है। अभी के इस माहौल में भी कुर्सी के लिये ही मगजमारी और मारामारी करने मे लगे हुये हैं। वैशाली के महुआ अनुमंडल के राजापाकर के अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र चकसिकंदर में कुछ ऐसा ही मामला फिर से देखने को मिला है। यहां की लोकल विधायक स्वास्थ्य केंद्र की डॉक्टर से सिर्फ इसलिये भिड़ गईं कि उनको प्रभारी डॉक्टर ने अपनी कुर्सी बैठने के लिये नहीं दी। हद तो यह हो गई कि विधायक ने डॉक्टर के पीछे से कुर्सी को हाथ लगाकर खींचने की भी कोशिश की लेकिन डॉक्टर ने कुर्सी को ऐसे धरा कि विधायक खींच नहीं पाईं। उसके बाद दोनों में बहस होने लगी। डॉक्टर भी अड़ गया कि मैं अपनी कुर्सी क्यों दूं, मेरे पास ऐसा कोई आदेश नहीं कि विधायक के आते ही कुर्सी छोड़ देना है।

गजब तो यह हो गया कि राजापाकर की कांग्रेस विधायक प्रतिमा कुमारी ने उन्हें प्रोटोकॉल समझाने की कोशिश की तो डॉक्टर ने कहा कि अगर ऐसा कोई लिखित आदेश या निर्देशन होगा तो मैं जरूर कुर्सी दे दूंगा। विधायक स्वास्थ्य केंद्र का मुआयना क्या करतीं, नजारा ही कुछ और हो गया। थोड़ी देर में दूसरी कुर्सी आई तो विधायक प्रतिमा कुमारी को बैठने के लिये दिया गया। मगर तब तक तो माहौल ही खराब हो चुका था। अब इसका वीडियो भी वायरल कर दिया गया है। इस मामले में एक पक्ष यह भी साफ झलकता है कि जैसे कोई विधायक को नीचा दिखाने के प्रयास में लगा हुआ है और फ्रेम टू फ्रेम वीडियो उसी मकसद से एडिट करके जारी किया गया है। दूसरा सवाल यह भी है कि अगर प्रतिमा कुमारी की जगह रामा सिंह या मुन्ना शुक्ला जैसा कोई दूसरा विधायक होता तो भी डॉक्टर इसी तरह से उसको बेइज्जत करता और बदजबानी करता।
सवाल कई हैं लेकिन जवाब मिलना मुश्किल। खासकर तब जब इस वीडियो को न्यूज एजेन्सी एएनआई ने भी जारी कर दिया हो। प्रतिमा कुमारी तो फिलहाल अब इस कुर्सी के चक्कर में बदनाम हो ही गईं हैं। इससे पहले भी प्रतिमा कुमारी ने एक सभा के दौरान एक युवक को थप्पड़ रसीद कर दिया था क्योंकि उसने छेड़खानी की थी। विधायक ने उस समय यह भी कहा था कि युवक ने मंच के नीचे से अश्लील इशारे किये हालांकि प्रैक्टिकली ऐसा संभव नहीं लगता फिर भी सभी ने विधायक के इस तर्क को स्वीकार कर लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *