गुलबी घाट पर विद्युत शवदाहगृह डूबा हुआ, बनारस में एनडीआरएफ की टीम मंदिर से रेस्क्यू करती हुई। Image Source : ANI

पटना में गंगा का प्रचंड रूप- गुलबी घाट का शवदाहगृह भी पूरी तरह डूब गया, मंदिर भी विलीन

Patna : पटना में गंगा का प्रचंड रूप दिखने लगा है। आसपास की बड़ी नदियों में सोन और पुनपुन का बढ़ता जलस्तर भी स्थिति को चिंताजनक बना रहा है। बुधवार को गंगा लाल निशान से ऊपर इलाहाबाद से फरक्का तक बह रही है। लेकिन पटना के गांधी घाट में अब तक के उच्चतम स्तर से केवल 60 सेंटीमीटर नीचे रह गया है। खास बात यह है कि केंद्रीय जल आयोग के मुताबिक गुरुवार रात 8 बजे तक गांधी घाट पर गंगा का जलस्तर 15 सेंटीमीटर बढ़ जायेगा। पटना के दीघा घाट में भी यह नदी हर घंटे एक सेंटीमीटर की रफ्तार से चढ़ रही है। पटना के साथ-साथ प्रदेश में भी गंगा खतरनाक संकेत दे रही है। इलाहाबाद से फरक्का तक सभी जगहों पर यह लाल निशान से ऊपर बह रही है। पटना में लाल निशान से काफी ऊपर जाने के बाद भी पुनपुन और सोन तेजी से बढ़ रहे हैं।

2016 में गांधी घाट पर गंगा का उच्चतम जल स्तर 50.52 मीटर रहा है। वहां बुधवार को नदी 49.90 मीटर जलस्तर के साथ बह रही है और लाल निशान से 1.30 मीटर ऊपर है। गुरुवार सुबह आठ बजे तक जलस्तर 50 मीटर को पार कर जायेगा।
दीघा घाट में गंगा 24 घंटे में लाल निशान से 27 सेंटीमीटर और लाल निशान से 83 सेंटीमीटर ऊपर चली गई है। नदी लाल निशान से ऊपर हाथीदाह में 118 सेंटीमीटर, भागलपुर में 37 सेंटीमीटर और कहलगांव में 92 सेंटीमीटर पर बह रही है। गुरुवार तक सभी जगहों पर इस नदी का जलस्तर दस से बीस सेंटीमीटर बढ़ने का अनुमान है।
खास बात यह है कि बिहार के बाहर भी गंगा नदी के ऊपर और नीचे दोनों तरफ तेजी से बढ़ रही है। यह नदी इलाहाबाद में लाल निशान से 52 सेंटीमीटर और बनारस में 82 सेंटीमीटर ऊपर है। डाउनस्ट्रीम, कहलगांव के बाद फरक्का भी लाल निशान से 89 सेंटीमीटर ऊपर है। यह हाल तब है जब फरक्का बैराज के सभी गेट खोल दिये गये हैं। पटना के लिए खतरा यह है कि पुनपुन ने अपना रुख बदल लिया है। पटना के श्रीपालपुर में यह नदी एक बार फिर ढाई मीटर के लाल निशान से ऊपर चली गई है। पिछले 24 घंटों में इस नदी का जलस्तर 47 सेंटीमीटर बढ़ा है और गुरुवार तक इसके 15 सेंटीमीटर बढ़ने की संभावना है। तीन दिन से मनेर में बेटा भी लाल निशान से ऊपर बह रहा है। यह नदी बुधवार को मनेर में लाल निशान से 72 सेंटीमीटर ऊपर है। कल तक इसके 25 सेमी बढ़ने की उम्मीद है।
वहीं दूसरी ओर कोसी नदी का बहाव भी बढ़ा है। कोसी नदी से बराह क्षेत्र में 98 हजार और बैराज में एक लाख 35 हजार क्यूबिक सेकेंड पानी उपलब्ध हो रहा है। यह नदी अभी भी खगड़िया में लाल निशान से 107 सेमी ऊपर है। गंडक का डिस्चार्ज भी बाल्मिकीनगर पर बराज पर एक लाख चार हजार है। यह नदी गोपालगंज में लाल निशान से 20 सेमी ऊपर है। दूसरी नदियों में बागमती मुजफ्फरपुर में 82 और बूढ़ी गंडक खगड़िया में 82 सेमी और कमला झंझारपुर में 40 सेमी ऊपर बह रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *