लालू प्रसाद यादव की फाइल फोटो। Image Source : Agencies

लालू के चारा घोटाले का भूत फिर विकराल : स्पेशल जज नियुक्त, सिर्फ लंबित 6 केसों की सुनवाई करेंगे रोज

Patna : राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद के लिये सिर मुंडाते ही ओले पड़े मुहावरा चरितार्थ हो रहा है। पॉलिटिकल गतिविधियां बढ़ाये और मोदी सरकार को घेरने के लिये विपक्ष को एक करने के उनके प्रयासों को एक माह भी नहीं हुआ कि चारा घोटाले का भूत फिर से विकराल रूप धारण कर सामने आ गया है। इस मामले में राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की मुश्किलें और बढ़ने वाली हैं। चारा घोटाले से जुड़े करीब एक दर्जन मामलों की सुनवाई के लिये विशेष जज बनाये गये हैं। इसलिये अब मामले की सुनवाई तेजी से की जायेगी। ऐसे में लालू प्रसाद यादव की मुश्किलें बढ़ सकती हैं और वे पॉलिटिकल गतिविधि क्या ही करेंगे, जब चारा घोटाले की सुनवाई में ही उलझ जायेंगे। पटना उच्च न्यायालय ने पटना के अपर जिला न्यायाधीश 12 सह सीबीआई विशेष न्यायाधीश प्रजेश कुमार को बहुचर्चित चारा घोटाले से संबंधित पटना सिविल कोर्ट में लंबित मामलों की सुनवाई के लिये अधिकृत किया है।

पटना उच्च न्यायालय से जारी पत्र के अनुसार न्यायाधीश प्रजेश कुमार केवल चारा घोटाले से जुड़े मामलों की सुनवाई करेंगे। पत्र में यह भी कहा गया है कि उनकी अदालत में लंबित अन्य मामलों को दूसरी अदालत में स्थानांतरित किया जाये। पटना हाईकोर्ट से जारी पत्र में सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुये इस व्यवस्था को लागू करने का फैसला लेने की बात कही गई है। गौरतलब है कि इस समय चारा घोटाले से जुड़े करीब 6 मामले पटना सिविल कोर्ट में लंबित हैं। इन मामलों में राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष सह पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव भी आरोपी हैं। मामला भागलपुर जिले के बांका उप कोषागार का है।
इस मामले में लालू प्रसाद के अलावा कई पूर्व मुख्यमंत्री, मंत्री, विधायक, सांसद और प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी आरोपी हैं। 1996 में दर्ज मामले में सीबीआई कोर्ट ने 2012 में लालू प्रसाद यादव, जगन्नाथ मिश्रा समेत 31 लोगों के खिलाफ फर्जी बिल के आधार पर बांका और भागलपुर कोषागार से 46 लाख रुपये की अवैध निकासी के आरोप तय किये थे।
बता दें कि चारा घोटाले से जुड़े चाईबासा और दुमका कोषागार मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद यादव को झारखंड उच्च न्यायालय ने जमानत दे दी। जिसके बाद वे दिल्ली में अपनी बेटी मीसा भारती के साथ उनके आवास में रह रहे हैं। पिछले एक महीने उन्होंने राजनीतिक गतिविधयां तेज की हैं और उनके मैदान में उतरते ही इस तरह के उपाय होने लगे हैं कि उन्हें किसी भी तरह चारा घोटाले के मामलों में उलझाया जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *