Image Source : tweeted by @AmitShah

गृह मंत्री ने मंच पर लगा बूलेटप्रूफ शील्ड हटवाया, बोले- अब किसी को डरने की जरूरत नहीं, डर निकाल दीजिये

New Delhi : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज श्रीनगर में एक जनसभा को संबोधित करने से पहले एक बुलेटप्रूफ कांच की ढाल को हटा दिया और भीड़ से कहा – मैं आप लोगों से सीधे बात करना चाहता हूं। अब समय आ गया है। आप अपने दिलों से डर निकाल दीजिये।
अमित शाह को जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के साथ शेर-ए-कश्मीर कन्वेंशन सेंटर में मंच पर चलते हुये और बुलेटप्रूफ शील्ड हटाने का आदेश देते हुये वीडियो में देखा जा सकता है। उपराज्यपाल की निगरानी में सुरक्षाकर्मियों को बुलेट प्रूफ हटाया।
बाद में गृह मंत्री ने अपने भाषण में इसका जिक्र किया। पारंपरिक फेरन पहनने वाले अमित शाह ने कहा- मुझ पर ताना मारा गया, निंदा की गई। आज मैं आपसे खुलकर बात करना चाहता हूं, यही वजह है कि यहां न तो बुलेट प्रूफ शील्ड है और न ही सुरक्षा। मैं आपके सामने ऐसे खड़ा हूं।

उन्होंने कहा- फारूक (अब्दुल्ला) साहब ने सुझाव दिया कि हमें पाकिस्तान से बात करनी चाहिये, लेकिन मैं फारूक साहब और आपसे यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि मैं घाटी के युवाओं और लोगों से बात करूंगा।
अमित शाह जम्मू और कश्मीर की तीन दिवसीय यात्रा पर हैं। अगस्त 2019 के बाद उनकी पहली यात्रा है। उन्होंने अगस्त 2019 संसद में अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू और कश्मीर को विशेष दर्जा देने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बदलने की घोषणा की। इससे पहले उन्होंने 2019 में भाजपा के सत्ता में दोबारा आने के बाद केंद्रीय गृह मंत्री का पदभार संभालने के ठीक बाद कश्मीर का दौरा किया था।
गृह मंत्री ने कहा- अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के पीछे केवल एक ही इरादा था – कश्मीर, जम्मू और नव निर्मित लद्दाख को विकास के रास्ते पर लाना। आप 2024 तक हमारे प्रयासों का फल देखेंगे।
बाद में, अमित शाह ने भीड़ को करीब से अभिवादन करके अपने आउटरीच को आगे बढ़ाया।
गृह मंत्री का यह दौरा कश्मीर में गैर-नागरिकों को निशाना बनाकर किये गये कई आतंकी हमलों के बाद हो रहा है। सरकारी अधिकारियों के अनुसार, यह यात्रा लोगों को आश्वस्त करने और यह संदेश देने के लिये है कि जम्मू-कश्मीर सभी के लिये सुरक्षित है।
यात्रा के लिए सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं और कश्मीर घाटी में 5,000 और सुरक्षाकर्मी तैनात किये गये हैं।
शनिवार को श्रीनगर पहुंचने के बाद उन्होंने इस साल की शुरुआत में आतंकवादियों द्वारा मारे गए एक पुलिस अधिकारी के परिवार से मुलाकात की और कश्मीर में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की।
उन्होंने गांदरबल में एक मंदिर का भी दौरा किया और एक जनसभा को संबोधित किया।

अमित शाह ने कहा- जम्मू के लोगों को दरकिनार करने का समय खत्म हो गया है और अब कश्मीर और जम्मू दोनों को एक साथ विकसित किया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *