बेबस ग्रामीणों से 100-200 ऐंठनेवाले सीआई को MLA ने हड़काया- पाई-पाई वसूलेंगे, जेल में डाल देंगे

पटना : लोक जनशक्ति पार्टी से पाला बदलकर नीतीश कुमार के जदयू के विधायक बननेवाले एमएलए राजकुमार सिंह ने ब्लॉक के सीआई की जमकर क्लास लगाई। 100-200 देकर उनसे छोटा मोटा काम करनेवाले गरीब ग्रामीणों की तो जैसे बांछें ही खिल गईं। हालत ऐसी हुई कि एक के बाद दूसरा और फिर तीसरा। एक के बाद एक कई लोग उसकी शिकायत करने लगे और अंतत वो हुआ जिसकी उम्मीद स्थानीय जनता को थी। विधायक राजकुमार सिंह ब्लॉक के सीआई पर भड़क गये। मटिहानी विधानसभा के शाम्हो प्रखंड में भ्रमण के दौरान ग्रामीणों ने विधायक के सामने सीआई की शिकायत कर दी। इसके बाद राजकुमार सिंह भड़क गए। उन्होंने गुस्से में कहा- यह आपके लिए लॉस्ट वॉर्निंग है। अपनी कार्यशैली में सुधार लाइये। सरकार पाई-पाई का हिसाब लेगी। जेल भी भेज देगी।

दरअसल, ग्रामीणों ने कहा कि सीआई भागीरथ प्रसाद हर काम के लिए रिश्वत लेते हैं। विधायक के सामने ही एक युवक ने कहा कि आवासीय बनवाने के लिए 100 रुपये लेते हैं। इसके बाद विधायक ने सीआई से पूछा कि क्या इसमें सच्चाई है। लेकिन, सीआई भागीरथ प्रसाद ने आरोपों को गलत बता दिया। इसके बाद वहां मौजूद अन्य ग्रामीण भी सीआई पर रिश्वत लेने का आरोप लगाने लगे। एक बुजुर्ग ने भी अपने काम को लेकर शिकायत की। विधायक राजकुमार सिंह ने सीआई भागीरथ प्रसाद को बुजुर्ग के काम को जल्द ही पूरा करने का निर्देश दिया। सफाई देते हुए सीआई ने कहा कि उन्होंने काम कर दिया है। सीओ के पास रूका हुआ है।
एक ग्रामीण ने यहां तक कह दिया कि सीआई बिना पैसे लिये ना तो किसी के जमीन की रसीद काटते हैं और ना ही आवासीय बनाते हैं। इतना सुनते ही विधायक राजकुमार सिंह उखड़ गये और उन्होंने चेतावनी दे डाली कि अगर आगे से आपकी कार्यशैली में सुधार नहीं हुआ तो आप कहां रहेंगे, यह आप खुद ही समझियेगा। अंतिम में उन्होंने सीआई को यह भी कहा कि आज आपको लास्ट वार्निंग दी जा रही है। अगर आप सुधार नहीं करते हैं तो फिर सरकार आपसे पाई पाई वसूल कर लेगी। साथ ही आपको रिश्वत लेने के आरोप में जेल में डाल देगी।
उल्लेखनीय है कि राजकुमार सिंह लोक जनशक्ति पार्टी के टिकट पर बेगूसराय के मटिहानी विधानसक्षा क्षेत्र से चुनाव जीते थे। वे प्रदेश में लोजपा के एक मात्र विधायक थे। लेकिन, बाद में पाला बदला लिया। वे जदयू में शामिल हो गये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *