गांव में साफ-शुद्ध पानी के लिए बिहार में हुआ ये फैसला, सब पर पड़ेगा असर

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जल नल योजना को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है। जो भी ग्रामीण इलाके हैं, वहां सुबह, दोपहर और शाम के वक्त नल के जल की आपूर्ति होगी। जिस तरीके से नगर निगम ऐसा करता है, वैसा ही अब ग्रामीण इलाकों में भी होगा। सुबह, दोपहर और शाम में दो-दो घंटे पीने के लिए शुद्ध पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी।

पंचायत स्तर पर भी होगी नियुक्ति

पंचायतों में बोरिंग चलाने के लिए ऑपरेटरों की भी नियुक्ति अब की जा रही है। अपनी जमीन पर जो लोग बोरिंग लगवाने की अनुमति दे देंगे, वैसे लोगों को इस मामले में पदाधिकारियों के अनुसार वरीयता दिए जाने का निर्णय लिया गया है।

इसके अलावा पंचायत स्तर पर ऑपरेटरों की नियुक्ति होने वाली है, जिनके लिए एक निश्चित मानदेय का प्रावधान होगा। इस तरह से पानी की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। पालीगंज के चिकासी पंचायत के वार्ड नंबर 2 का एक मामला प्रकाश में आया है कि यहां 2 माह से जल की आपूर्ति नहीं हो पा रही है।

ठीक की जाएगी गड़बड़ी

जांच में पाइप के कई जगह पर कटे होने की बात सामने आई है। ग्रामीण इलाकों में जो कच्ची नाली और गली के निर्माण में गड़बड़ी पाई गई थी, अब उसे ठीक करने की जिम्मेवारी पंचायत को दे दी गई है। दानापुर, पंडारक, पालीगंज, अथमलगोला और मसौढ़ी के साथ एक दर्जन से अधिक पंचायतों में गड़बड़ी के मामले प्रकाश में आए हैं, जिन्हें कि ठीक करने का काम शुरू कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *