स्कॉर्पियो पर उन्मादी भीड़ का हमला। Image Source : Screengrab from viral video tweeted by @rakeshbjpup

ये अफगानिस्तान नहीं कटिहार है- स्कॉर्पियो ने हॉर्न बजा पास क्या मांगा मोहर्रम की उन्मादी भीड़ ने कुचल डाला

Patna : कटिहार से एक भयावह तस्वीर सामने आई है। हजारों लोगों ने स्कॉर्पियो में बैठे एक परिवार पर लाठी, डंडे और भालों से हमला बोल दिया। गलती बस इतनी थी कि इस स्कॉर्पियो में सवार परिवार के साथ एक बच्चा मरीज था और ड्राइवर ने बार बार हॉर्न बजाकर गाड़ी को पास देने की डिमांड की। यह परिवार डॉक्टर से अपने मरीज को दिखाकर पूर्णिया से कटिहार लौट रहा था। स्कॉर्पियो से लौट रहे इस परिवार में एक बच्चा भी था। बच्चे के इलाज के सिलसिले में ही परिवार पूर्णिया गया हुआ था। लौटने के क्रम में नेशनल हाइवे 31 पर मुहर्रम का जुलूस निकला हुआ था और हजारों की भीड़ इस एनएच पर थी। वो भी तब जब प्रशासन ने सख्ती से मोहर्रम का जुलूस निकालने पर पाबंदी लगाई हुई थी। काफी देर बाद भी जब स्कॉर्पियो को पास नहीं मिला तो ड्राइवर हॉर्न बजाने लगा। उसने लोगों से बीमार बच्चे के नाम पर पास देने के लिये मनुहार किया।

लेकिन उन्मादी भीड़ को बीमारी बच्चा और निरीह परिवार नजर नहीं आया। सरकार और प्रशासन के आदेशों को अपने ठेंगे पर लेकर चल रहे इन दरिंदों ने लाठी और भाले से गाड़ी पर हमला शुरू कर दिया। एक भाला अंदर बैठे एक शख्स को लग गया। वह अस्पताल में जीवन और मौत की लड़ाई से जूझ रहा है। गाड़ी पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया है। इस मामले में कोरा थाना क्षेत्र में उपद्रव करने को लेकर, भीड़ लगाने को लेकर आदि में एफआईआर किया गया है। लेकिन इसकी गुंजाइश कम ही है कि मामले में ठोस कार्रवाई हो। क्योंकि प्रशासन की रोक के बावजूद इस तरह का जुलूस निकला और वो भी पुलिस प्रोटेक्शन में।
आश्चर्य की बात यह है कि बिहार में भाजपा की सरकार है और भाजपा के नेता ही सरकार पर हंस रहे हैं। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने ट‍्वीट किया- ये अफगानिस्तान नहीं बल्कि बिहार का कटिहार है, जहाँ पूर्णिया से मरीज दिखा कर लौट रही स्कॉर्पियो के चालक ने हॉर्न बजाकर पास मांग लिया तो मोहर्रम की उन्मादी भीड़ ने जो किया, वो आपके सामने है। अगर कहीं ये वीडियो दुर्गा प्रतिमा विसर्जन का होता, तो कुछ को भारत मे डर लगने लगता।

 

देखते ही देखते यह वीडियो वायरल हो गया है। लोग तमाम तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। ज्यादातर लोगों की राय है कि सरकार को सख्त रुख अख्तियार कर पूरे मामले में कार्रवाई करनी चाहिये। कुछ लोग यहां भी योगी आदित्यनाथ का शासन चाह रहे हैं तो कुछ लोग भाजपा नेता को चुल्लू भर पानी में डूब मरने की सलाह दे रही हैं, खासकर तब जब बिहार में सरकार भारतीय जनता पार्टी की ही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *