photographs altered by Live Bihar

वो साल दूसरा था, ये साल दूसरा है : यह तस्वीर कहती है- राजनीति कितनी मौकापरस्त होती है!

Patna : मुख्समंत्री नीतीश कुमार ने 17 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के मौके पर हस्ताक्षर अभियान चलाया। इस अभियान की तस्वीर एकाएक सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी है। लोग डीएनए विवाद को याद कर रहे हैं जब इसी तरह का अभियान जनता दल यूनाइटेड ने नीतीश कुमार के नेतृत्व में चलाया था। यह अभियान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ था। डीएनए विवाद में मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री के भाषण में किसी संदर्भ में कहे गये डीएनए शब्द को बिहार के डीएनए पर हमला करके बहुत प्रचारित किया। चुनाव का मुद‍्दा बनाया। लाखों कार्यकर्ताओं ने अपने बाल, नाखून काट प्रधानमंत्री को भेज कर अपना विरोध जताया। अब इस नई तस्वीर के बाद सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स पर कई लोग मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को वही प्रकरण याद दिला रहे हैं और इस तस्वीर पॉलिटकल पाखंड का उदाहरण बता रहे हैं।


वरिष्ठ पत्रकार शिशिर सोनी ने अपने फेसबुक पर इा तस्वीर के साथ एक लंबा पोस्ट करके मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को आइना दिखाने का काम किया है। उन्होंने लिखा है- गिरगिट के बदलते रंग
पीएम मोदी को बिहारवासियों की ओर से मैं भी जन्मदिन की शुभकामनयें प्रेषित करता हूँ। मगर उसी सांस में उनके पोस्टर पर शुभकामना लिख रहे बिहार के सीएम नितीश कुमार से पूछना चाहूंगा कि जब आप भाजपा के साथ नहीं थे, जब आपने इन्हें न्यौता देकर पत्तल खींच लिया था, तब बिहार के डीएनए की बात उठी थी। पीएम मोदी ने एक संदर्भ में बिहारी डीएनए में “गड़बड़ी” की बात की थी। तब आपने उस मुद्दे को लपका था। लाखों बिहारियों के नाखून और बाल कटवाकर दिल्ली भेजा था। तब चुनौती दी थी कि बिहारियों के नाखून और बालों से पीएम मोदी डीएनए टेस्ट करा लें। बात केवल पांच साल पुरानी है।
तब बाल,नाखून सैंपल संग्रह केंद्र एवं पोस्टकार्ड पर हस्ताक्षर के लिए धरना स्थल पर काउंटर खोले गए थे। धरना स्थल पर बड़े-बड़े पोस्ट भी लगाए गए थे जिस पर लिखा था-‘मुझे बिहारी होने पर गर्व है, हमारे डीएनए में कोई खराबी नहीं है। शक है तो जांच करा लें।’ इस पोस्टर पर भी सभी ने हस्ताक्षर किए। वो पोस्टर भी प्रधानमंत्री को भेजे गए थे। मांग थी कि पीएम मोदी अपने शब्द वापिस लें! क्या शब्द वापिस हुए? नितीश कुमार से पूछा जाना चाहिए।
अब इस पोस्टर पर हस्ताक्षर हो रहे हैं। इसे भी पीएम मोदी को भेजा जायेगा। राजनीति कितनी दोगली और मौकापरस्त होती है!!!

राष्ट्रीय जनता दल सुप्रीमो लालू प्रसाद के लाल तेज प्रताप यादव ने ट‍्वीट किया- जिनकी कृपा पर मुख्यमंत्री बनें हैं उनकी कृपा कहीं रुक नहीं जाए इसलिए भक्ति में लीन हो गये हैं। कुर्सी का मोह आदमी को क्या – क्या नहीं करवाता है!
ट‍्विटर हैंडल अंधेर नगरी, चौपट राजा ने लिखा है- पलटू चाचा का अब डीएनए भी खराब नही है और ना ही मिट्टी में मिल जाने की हिम्मत। मिट्टी में मिल जाऊंगा पर मोदी और बीजेपी के साथ दोबारा नहीं जाऊंगा – नीतीश कुमार। आज कुर्सी की खातिर उसी मोदी के लिए जन्मदिवस पर बोर्ड पे लिखकर बधाई देते अपने पलटू चाचा!

जयंत दीक्षित ने लिखा है- जिस व्यक्ति के दिए पैसे को नीतिश कुमार जी लौटा दिया करते थे आज उसके जन्म दिवस की शुभकामनाएं अपनी हाथो से लिखना पर रहा है और कितना गिरायेगा अपने स्वाभिमान को।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *