कैश और जेवरात के साथ विजिलेंस टीम की एक सांकेतिक तस्वीर। Image Source : Vishal Kumar/ Live Bihar

इंजीनियर के तहखाने से निकला खजाना : 1.43 करोड़ कैश मिला, दिनभर मशीन से अफसरों ने गिने नोट

Patna : बिहार की राजधानी पटना में एक इंजीनियर के घर में खजाना मिला है। जी हां, इंजीनियर ने कैश का खजाना अपने घर में छिपाकर रखा था। छिपाने के लिये घर में तहखाना बना था। और जब तहखाना खुलने लगा, पैसा निकलने लगा तो विजिलेंस अफसरों की आंखें फटी रह गई। पहले तो अंदाजा था कि 60 लाख रुपये कैश होगा, लेकिन मशीन से जब गिनती होने लगी तो यह गिनती करोड़ को पार करके 1.43 करोड़ तक जा पहुंचा। बांकी संपत्तियों, फिक्स डिपॉजिट आदि की तो पूछिये ही मत। इंजीनियर के घर में चारों तरफ लक्ष्मी का ही वास था। काली कमाई की लक्ष्मी। पटना के पुनाईचक निवासी धनकुबेर इंजीनियर रविंद्र कुमार के ठिकानों पर अभी भी निगरानी के छापे जारी हैं। छापेमारी में तहखाने से बहुत सोने, जवाहरात भी निकले हैं। इनकी कीमत भी लाखों में है या फिर एकाध करोड़ में।

सर्विलांस डीएसपी सर्वेश सिंह ने मामले की पुष्टि करते हुये कहा कि कमरे की तलाशी के दौरान नोटों को बेसमेंट में छिपाकर रखा गया था। अब तक नोटों की संख्या बढ़कर 1.43 करोड़ हो गई है और जांच अभी जारी है। पैसे समेत कुल संपत्ति की बात करें तो एलआईसी के कागजातों के साथ-साथ अब तक बरामद किये गये जेवर और जमीन के कागजात का मूल्यांकन 2.5 करोड़ से ज्यादा होने का अनुमान लगाया जा रहा है। एक इंजीनियर के घर से इतनी रकम और संपत्ति मिलने से अधिकारी भी हैरान हैं।
निगरानी ब्यूरो ने बड़ी कार्रवाई करते हुये पुल निर्माण निगम के अभियंता रविंद्र कुमार के घर छापेमारी कर 2.83 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति बरामद की है। निगरानी ब्यूरो को भी इंजीनियर के आवास से 1.43 करोड़ रुपये नकद मिले। इन पैसों को अलग-अलग बैग में छिपाकर रखा गया था। नोट इतने थे कि निगरानी ब्यूरो को दो नोट गिनने की मशीन मंगवानी पड़ी तो कहीं नोटों की गिनती हो सकी। रवींद्र कुमार पुल निर्माण निगम में कार्यभार ग्रहण करने से पूर्व सड़क निर्माण विभाग के वैशाली पथ प्रमंडल में कार्यपालक अभियंता के पद पर कार्यरत थे। इसी वर्ष 22 जून को उनकी सेवा बिहार राज्य सड़क विकास निगम को सौंप दी गयी थी।
निगरानी ब्यूरो ने गुरुवार को थाना क्रमांक 30/2021 में इनके खिलाफ 1.47 करोड़ रुपये की आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का मामला दर्ज किया और शुक्रवार को इनके लिये छापेमारी की योजना बनाई गई। आज सुबह करीब नौ बजे सर्विलांस टीम ने उनके आवास रजिया निवास, मोहनपुर, पुनाईचक में छापेमारी की। उस समय रविंद्र कुमार, उनकी पत्नी और बच्चे घर पर थे। सर्विलांस ने 1.43 करोड़ रुपये नकद, 20 लाख रुपये के सावधि जमा पत्र, 67 लाख रुपये के सोने और चांदी के आभूषण के अलावा विभिन्न बैंकों की लगभग 15 पासबुक बरामद की।
निगरानी ब्यूरो से मिली जानकारी के अनुसार इंजीनियर रवींद्र कुमार के आवास से बरामद 15 बैंक पासबुक में करीब 53 लाख रुपये जमा हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *