143 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेंगे चिराग? दिल्ली में अमित शाह तक पहुंची बात

चिराग पासवान ने दिल्ली में बैठक क्या की, बिहार की राजनीति डंवाडोल होने लगी। असल में लोक जनशक्ति पार्टी ने दिल्ली में बिहार संसदीय बोर्ड की बैठक की। इस बैठक के बाद हमेशा की तरह सूत्रों के हवाले से खबरें निकल कर सामने आ रही हैं। हालांकि ये खबरें बिहार में लोजपा और जदयू के बीच बढ़ती खाई की ओर ही इशारा कर रही हैं। खबर ये है कि बिहार लोजपा ने इस बैठक में 143 सीटों की एक लिस्ट सौंपी है। ये वो सीटें हैं जहां विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी की गई है। हालांकि अभी अंतिम फैसला लिया जाना बाकी है। ऐसा कहा जा रहा है कि संसदीय दल की बैठक में लोजपा ने बिहार विधानसभा चुनावों में जदयू प्रत्याशियों के खिलाफ कैंडिडेट देने का प्रस्ताव दिया है।

बड़ी खबर यह है कि सैद्धांतिक तौर पर चिराग पासवान भी इस प्रस्ताव से सहमत बताए जा रहे हैं। लोजपा का कहना है कि भाजपा जिन सीटों पर लड़ने वाली है उन्हें छोड़ बाकी सभी सीटों पर उम्मीदवार उतारे जाएं। यानी बिहार में लोजपा बीजेपी से दोस्ती और जदयू से दुश्मनी टाइप राह पर चलने के संकेत दे रही है। ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि एनडीए को एक साथ लड़ना और यदि ऐसी सिचुएशन सामने आती है तो गठबंधन का कोर्स ऑफ एक्शन क्या होगा।

वैसे भी बिहार चुनाव अब सिर पर हैं। यही वजह है कि यह बात दिल्ली में बैठे गृहमंत्री अमित शाह तक भी पहुंच गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चिराग पासवान की फोन पर अमित शाह से बात हुई है और इस बातचीत के बाद लोजपा के रुख कुछ नरम बताए जा रहे हैं। चिराग बिहार में पार्टी के भविष्य को लेकर लगातार गहरे मंथन में जुटे हैं और यही वजह है कि वे कई दिशा में सोच रहे हैं।

उधर, विपक्ष में बैठे तेजस्वी यादव भी एनडीए के इस आतंरिक गतिरोध पर मजे ले रहे हैं। उन्होंने सोमवार को कहा है कि नीतीश कुमार चिराग पासवान का राजनीतिक भविष्य समाप्त करना चाहते हैं। यही वजह है कि वो मांझी और उनकी पार्टी से लोजपा व चिराग के खिलाफ बयानबाजी, पोस्टरबाजी करा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *