ऐबीआई एटीएम की प्रतीकात्मक तस्वीर। Image Source : Agencies

SBI से 4 बार कैश निकालना ही फ्री, 5वीं निकासी से 15 रुपये, चेकबुक का 40 रुपये प्लस जीएसटी शुल्क कटेगा

New Delhi : कल एक जुलाई से आम लोगों की तकलीफ और बढ़नेवाली है। पहले ही पेट्रोल डीजल की बेतहाशा बढ़ोतरी और बेतहाशा महंगाई से परेशान लोगों को सरकार के नये नियम रुलाने वाले हैं। खासकर बैंकिंग के नये नियमों की जानकारी होना आवश्यक है। आम लोग अगर ध्यान से काम नहीं करेंगे तो बेवजह शुल्क और कटौतियों के शिकार हो जायेंगे। बैंकिंग के कई नियम बदलने जा रहे हैं। इनमें सर्वाधिक ग्राहकों वाले भारतीय स्टेट बैंक के नये नियम अहम हैं। बैंक अब महीने में चार बार से ज्यादा नकद निकासी पर शुल्क वसूलने जा रहा है। इसके अलावा कारोबारियों के लिये टीडीएस (स्रोत पर कर कटौती) नियमों में भी बदलाव लागू हो जायेंगे। हर महीने की तरह एक जुलाई से भी घरेलू गैस सिलेंडरों के दाम बदल जायेंगे।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में अब नये नियम एक जुलाई से प्रभावी हो रहे हैं। भारतीय स्टेट बैंक की शाखा हो या एटीएम, अब सिर्फ महीने में चार बार ही नगद रुपये बिना शुल्क निकाल सकेंगे। इसके बाद हर निकासी पर 15 रुपये के साथ जीएसटी लगेगा। कई लोगों की आदत होती है दो सौ, चार सौ निकालने की। खासकर बेहद गरीब लोगों की। ऐसे लोगों पर यह बेवजह का शुल्क जानलेवा होगा। यही नहीं 10 पन्नों की चेक बुक भी अब फ्री नहीं होगी। इसके लिये 40 रुपये शुल्क और जीएसटी देने होंगे। इमरजेंसी में चेक बुक ली तो यह चार्ज 50 रुपये हो जायेगा।
हर महीने की तरह एक जुलाई से भी एलपीजी सिलेंडर की कीमतें बदल जाएंगी। हालांकि यह बदलाव कितने का होगा, यह तेल कंपनियों ने अभी तक नहीं बताया है। इसके अलावा मारुति सुजुकी इंडिया की कारें और हीरो की बाइक एक जुलाई से महंगी हो जायेंगी। हीरो गाड़ियों की एक्स-शो रूम कीमतें तीन हजार तक बढ़ेगी। आयकर अधिनियम में सेक्शन-194 क्यू जोड़ा गया है। यह सामान खरीदने के लिये तय कीमत के भुगतान पर लगने वाले टीडीएस से जुड़ा है। इसमें 50 लाख से ऊपर की कारोबारी खरीद पर 0.10% टीडीएस काटा जायेगा। पिछले साल टर्नओनर 10 करोड़ रहा है तो इस साल 50 लाख से अधिक का माल खरीद सकेंगे। इससे ज्यादा बिक्री होगी तो टीडीएस कटेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *